lahsun ke fayde
Image Source : Photo by Isabella Mendes from Pexels

जानिए कितना गुणकारी होता है – लहसुन (Garlic) – Benefits Of Lahsun in Hindi

वास्तव में बहुत गुणकारी होता है – लहसुन। लहसुन (Garlic) हमारे शरीर के सबसे महत्त्वूर्ण अंग Heart को Healthy रखने के लिए एक बहुत ही अच्छी Diet  माना जाता है। इससे Blood Circulation  सही रहता है। इसके अलावा यह  कोलेस्ट्रॉल को कम करने और हृदय रोग को रोकने में मदद करता है। यह Atherosclerosis के विकास या Arteries के सख्त होने की स्पीड को धीमा कर देता है। यह दिल के दौरे या स्ट्रोक के खतरे  को भी कम करने में  सहायता करता है। आईये जाने आखिर क्यों गुणकारी होता है – लहसुन।

CLASSIFICATION

Scientific name: Allium sativum

Kingdom:Plantae

Clade:Tracheophytes

Clade:Angiosperms

Clade:Monocots

Order:Asparagales

Family:Amaryllidaceae

Sub-family:Allioideae

Genus:Allium

Species:A.sativum


लहसुन के कुछ फायदे :

हृदय रोग में फायदेमंद

  • रोजाना सुबह-सुबह 1 या 2 क्रश किए हुए लहसुन Lahsun का सेवन करें। इससे आपके हृदय की Health सही रहेगी और हृदय रोगों से आपकी रक्षा भी होगी।

High Blood Pressure के लिए लाभदायक

  • अगर शरीर में  Angiotensin I-converting enzyme, or “ACE” (I-converting enzyme, or “ACE”) का Production बढ़ जाए तो इससे Blood Pressure बढ़ जाता है। कई अंग्रेजी दवाइयां इस एंजाइम को बनने से रोकने का काम करती है लेकिन उनके कई Side-effects  होते हैं। लहसुन में Gamma-glutamylcysteine एक प्राकृतिक ACE होता है। इस Chemical  की वजह से लहसुन Arteries को चौड़ा करता है जिससे हाई ब्लड प्रेशर नियंत्रित हो जाता है। इसीलिए गुणकारी होता है – लहसुन (Garlic)।
  • Studies से पता चला है कि लहसुन High Blood Pressure को भी कम कर सकता है, विशेष रूप से Crystal Blood Pressure. High Blood Pressure से पीड़ित लोगों को रोजाना कुछ लहसुन की कलियों को खाली पेट खाना चाहिए। अगर आपको लहसुन का स्वाद पसंद नहीं है, तो इसे खाने के बाद आप एक गिलास दूध पी सकते हैं। इसलिए भी गुणकारी होता है – लहसुन।

 गठिया के दर्द को कम करने में मदद

  • गठिया के दर्द को कम करने के लिए तो बहुत ही गुणकारी होता है – लहसुन।
  • गठिया एक ऐसी बीमारी है जो आपको जीवन में किसी भी उम्र में Affect कर सकती है। इसे आप बदल नहीं सकते हैं। लेकिन Normal Life जीने के लिए निश्चित रूप से इससे लड़ने के कई तरीके हैं। नियमित दवाइयों के साथ-साथ उचित अभ्यास और उचित डाइट, गठिया रोगियों के लिए बहुत  महत्वपूर्ण है।
  • प्राचीन ग्रंथों में इसके लक्षणों को दूर करने में मदद के लिए कई Complementary & Alternative Therapy भी बताई गई है। हालांकि इनमें से अधिकतर उपचारों में Scientific Proof Concept नहीं है; कुछ को Researchers ने Test किया है जो अत्यधिक प्रभावशाली साबित हो रहे हैं। गठिया के दर्द और सूजन के लिए ऐसा एक घर पर मौजूद उपाय लहसुन है।
  • लहसुन एक Herbal Product है जिसपर काफी Research हुए हैं और कई Health Situation के लिए इसका इस्तेमाल किया गया है। Rheumatoid Arthritis के इलाज में ये विशेषकर लाभदायक साबित होता है। (Rheumatoid) गठिया वाले लोगों के दर्द और अन्य लक्षणों को कम करने के लिए लहसुन Lahsun एक परखा हुआ और प्रभावी उपाय है। इसमें Contained Anti-oxidant और Anti-Inflammatory गुण गठिया के विभिन्न रूपों से जुड़ी सूजन को कम करने में मदद करते हैं। इसमें  Acetyl disulfide भी शामिल है जो Harmful Enzyme को Limited करने में या कम करने में सहायता करता है।
  • गठिया के कारण होने वाले  सूजन और जोड़ों के दर्द को कम करने के लिए, अपने Regular Diet में लहसुन शामिल करें।  जितना हो सके इसका सेवन खाली पेट ही करें।
  • लहसुन को लेने के कई तरीके हैं। आपको ये सूखे पाउडर के रूप में और कैप्सूल या टैबलेट में के रूप में मिल सकता है। आप इसका तेल भी इस्तेमाल कर सकते हैं। 
garlic
Image Source : Photo by Buenosia Carol from Pexels

 बढ़ाए Immunity System

  • First World War के दौरान कच्चे लहसुन के रस को घावों पर Anti-septic के रूप में इस्तेमाल किया गया था और हजारों लोगों को बचाने में मदद मिली थी। इसको इलाज के रूप में काफी समय से इस्तेमाल किया जा रहा है।
  • काफी सालों से सुझाव दिए जाते आए हैं कि लहसुन हृदय रोग, हाई कोलेस्ट्रॉल, सर्दी जुकाम और फ्लू सहित विभिन्न प्रकार की Medical Problems में मदद कर सकता है। इसका कारण यह है कि लहसुन में Allicin होता है जिसकी एक अलग गंध होती है।
  • लहसुन Vitamin C, B6 and Selenium & Manganese जैसे Mineral का एक अच्छा स्रोत है। यह सभी विटामिन और Mineral Immunity  बढ़ाने में मदद करते हैं और Mineral Absorption में भी सुधार लाते हैं।

एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-बायोटिक गुण  

  •  ये दोनों ही गुण शरीर की बीमारियों से लड़ने की क्षमता को मजबूत करते हैं।

सर्दी और खांसी का प्रभावी इलाज 

  • लहसुन Antibiotic और Anti-Viral Benefit प्रदान करता है जो हमारे शरीर को सर्दी और खांसी से दूर रखता है और यह सर्दी और खांसी का एक सफल इलाज भी माना जाता है। इससे Respiratory Infection की  Seriousness भी कम हो सकती है।

अस्थमा और ब्रोंकाइटिस का इलाज 

  • अस्थमा और ब्रोंकाइटिस जैसे Respiratory Problems के इलाज में बहुत लाभकारी है। यह खांसी सम्बंधित Phlegm Detector को बढ़ावा देता है।

Fungal Infection में कारगर

  • लहसुन में शक्तिशाली एंटी-फंगल (कवक विरोधी) गुण पाए जाते हैं जो Fungal Infection से लड़ने में सहायता करते हैं। फंगल इन्फेक्शन दाद का एक प्रमुख कारक बन सकता है। लहसुन Candida से लड़ने में भी मदद करता है।

Fungal Infection को मात देने के लिए :-

  • प्रभावित Skin Area पर लहसुन का जैल या तेल लगाएं।
  • मुंह के छाले से पीड़ित होने पर, मुंह के प्रभावित क्षेत्रों पर लहसुन का पेस्ट लगाएं।
  • अपने Diet में ताज़ा कच्चे लहसुन को शामिल करें।

एलर्जी में फायदेमंद

  • लहसुन, बंद नाक, छींकें आना और आंख से पानी आने जैसे एलर्जी के लक्षणों से आराम दिलाने और उन्हें ठीक करने में मदद करता है। यह आपके एलर्जी के लक्षणों की Seriousness को कम करने के लिए Histamine (एलर्जिक रिएक्शन की वजह से निकलने वाला Chemical) से लड़ने में सक्षम है। यही कारण है कि लहसुन एक Anti Histamine है।
  • लहसुन एलर्जी वाले Cells पर Attack करके और Blood Circulation से पूरी तरह उन्हें हटाकर एलर्जी को ठीक करने में मदद करता है।
remedies-of-garlic
Image Source : Photo by PhotoMIX Company from Pexels

उत्तम Anti-Viral & Anti-Inflammatory गुण 

  • लहसुन शरीर को विभिन्न प्रकार की एलर्जी से लड़ने में भी मदद करते हैं। लहसुन ने Allergic Rhinitis के कारण हुई Airways Inflammation को कम करने में भी Positive Response दिखाया है।
  • एलर्जी सीजन के दौरान, एलर्जी वाले लोगों को रोजाना लहसुन Supplement लेने की सलाह दी जाती है। त्वचा पर चकत्ते, कीट काटने या किसी अन्य प्रकार की एलर्जी के कारण खुजली से तुरंत राहत पाने के लिए, पीसे हुए लहसुन के पेस्ट को प्रभावित क्षेत्र पर लगाना बहुत ही प्रभवशाली माना जाता है।

दिलाए दांत दर्द से राहत

  • मुंह में पाए जाने वाले बैक्टीरिया की लगभग 500 से अधिक  Species होती हैं। इनमें से कुछ बैक्टीरिया Health के लिए अच्छे होते हैं और कुछ अच्छे नहीं होते हैं। अपने मुंह को Healthy रखने के लिए आपको इन दोनों तरह के  बैक्टीरिया को Balance रखना पड़ता है।
  • लहसुन में पाए जाने वाला Allicin खराब बैक्टीरिया को रोकता है जो मुंह में बढ़ने से दांत ख़राब होने का कारण बनते हैं। कई Studies ने निष्कर्ष निकाला कि लहसुन के उपयोग से खराब बैक्टीरिया के Population को Control करके और अच्छे बैक्टीरिया को बढ़ने देने से मसूड़ों की बीमारी से लड़ने में मदद मिल सकती है। दांत दर्द को कम करने में लहसुन बहुत ही प्रभावी माना जाता है। क्योंकि इसमें एंटी-बैक्टीरियल और एनाल्जेसिक गुण पाए जाते हैं। दांत-दर्द से तत्काल राहत पाने के लिए आपको बस लहसुन का तेल या क्रश किये हुए लहसुन का एक टुकड़ा Affected दाँत पर और आसपास के मसूड़ों पर लगाना है।

पेट की  समस्याओं के लिए बहुत ही फायदेमंद है लहसुन

  • लहसुन खाने से पेट की सभी समस्याओं में आराम मिलता है। लहसुन आपका पाचन, कब्ज और गैस जैसी समस्याओं से राहत देने में मदद करता है।

लहसुन वजन घटाने में भी लाभदायक 

  • लहसुन का सेवन करने से  शरीर में मौजूद सारे Toxic Waste बाहर निकल जाते हैं जिसकी वजह से शरीर में मौजूद जो Extra Fat  है वो Burn हो जाता है। और  वजन आसानी से कम हो जाता है। 
  • इसके लिए आप Daily सुबह खाली पेट दो से तीन लहसुन खाएँ। इससे आपको अतिरिक्त वजन से छुटकारा मिलने के साथ साथ आपका Blood Circulation भी ठीक रहेगा।

 Diabetes में लहसुन का उपयोग

  • मधुमेह रोगी के लिए अत्यंत गुणकारी होता है – लहसुन। Diabetic Patients को अपनी Diet में लहसुन Add करना बहुत फायदेंमन्द हो सकता है।  NCBI  द्वारा Published  एक Research के अनुसार एक से दो हफ्ते के लिए लहसुन का सेवन  डायबिटीज के मरीजों में शुगर को नियंत्रित करने में बहुत ही लाभकारी साबित हुआ है। इसके साथ ही यह कोलेस्ट्रॉल को भी Control करने में फायदेमंद हो सकता है। एक Research के अनुसार कच्चा लहसुन Sugar Level को कम करने में सहायता करता  है। इसके अलावा, लहसुन में  एंटी-डायबिटिक गुण भी पाया जाता है  जो डायबिटीज के जोखिम को कम करने में सहायता करता है।

लहसुन का उपयोग किस तरह से किया जा सकता है।

  • खाने में Limited Amount  में लहसुन शामिल कर सकते हैं।
  • रोजाना खाली पेट कच्ची या सूखी लहसुन की कली का सेवन कर सकते हैं। 
  • एक या दो लहसुन की कलियों को बारीक काटकर पालक की Smoothie में मिलाकर सेवन कर सकते हैं। यह कच्चा लहसुन खाने के तरीके से  थोड़ा अलग है।
  • लहसुन को रोज सब्जी या सूप में डालकर भी खाया जा सकता है।
  • गार्लिक टी यानी लहसुन की चाय के रूप में भी सेवन कर सकते हैं।
  • लहसुन की कलियों को घी में भूनकर भी  खाया जा  सकता हैं।
  • दो से तीन लहसुन की कलियों को हरे प्याज, ब्रोकली और चुकंदर के रस के साथ मिलाकर सेवन कर सकते हैं।  
  • सरसों के तेल में लहसुन की कलियों को गर्म करके, जोड़ों के दर्द के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

लहसुन की चाय बनाने के लिए सामग्री और विधि

  • एक लहसुन की कली, एक गिलास पानी, एक चुटकी कसा हुआ अदरक।
  • एक चम्मच नींबू का रस और एक चम्मच शहद।
garlic-tea
Image Source : Photo by Ahmed Aqtai from Pexels
  • सबसे पहले  गिलास पानी उबाल लिजिए अब इसमें कसे हुए अदरक और लहसून को पीसकर डाल दीजिए और 15 से 20 मिनट तक इसे धीमी आंच पर पकाएं, फिर आंच को बंद करके इसे 10 मिनट के लिए  ऐसे ही छोड़ दीजिए। इसके बाद इस अदरक और लहसुन वाले पानी को छान लीजिए और इसमें एक चम्मच नींबू का रस और एक चम्मच शहद मिला लीजिए  जिससे यह  मीठा और स्वादिष्ट हो जाए, और ये लीजिए आपकी लहसुन वाली चाय तैयार है। इसमें  नींबू और अदरक होने की वजह से लहसून की Smell  भी आपको नहीं आएगी। और आप ये Healthy चाय पीजिए और इसके फायदों का लाभ उठाइए। अब आपको यह महसूस हो रहा होगा कि वास्तव में बहुत गुणकारी होता है – लहसुन।

About the author

Fuggy Pandey

Fuggy Pandey

I am a content writer who specialized in writing about Facts, Technology, Life Hacks, Biography and Trending content. I'm working with a great team and have enjoyed the opportunities they have given me to help their knowledge grow.

View all posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *