girls sings a song
Image Source : image by pixabay from pexels

कुछ कर जाने का जुनून (हौंसले की उड़ान) – Motivational Story

दोस्तों यह कहानी एक सच्ची घटना (Motivational Story in Hindi) पर आधारित है। यह एक ऐसी लड़की की कहानी है। जिसे बचपन से ही कुछ भी नहीं दिखाई देता है। लेकिन फिर भी उसने अपना आत्मविश्वास नहीं खोया और अपनी हिम्मत से कुछ ऐसा कर दिखाया। जिस पर उसके पिता और गुजरी हुई माता को हमेशा गर्व रहेगा। और आपको भी इस बच्ची के जज्बे को मानना पड़ेगा।

ऐसे बच्चे से अक्सर टूट जाया करते हैं और अपनी जिंदगी का मकसद ही भूल जाया करते हैं। लेकिन इस लड़की ने अपने आत्मविश्वास (Motivational Story in Hindi) और हाैंसले से कुछ ऐसा कर दिखाया जिसकी वजह से आज वह बहुत से लोगों के लिए प्रेरणा स्रोत बन चुकी है।

  1. कुछ समय पहले की बात है बनारस में एक पति पत्नी रहते थे। जिनका नाम कमला और विवेक था।इनकी एक बेट थी। जिसका नाम तनु था। तनु को बचपन से ही दिखाई नहीं देता था। उसकी आंखें नहीं थी। जिससे उसके मम्मी पापा उसे लेकर बहुत परेशान रहते थे। क्योंंकि कमला को भी थर्ड स्टेज का ब्रेन कैंसर था।
  1. वैसे गिरने पर चोट तो बहुत कम लगती है लेकिन खुद में अगर किसी कमी का एहसास हो तो बहुत दर्द होता है। ऐसा ही तनु के साथ भी हुआ था। एक दिन तनु का पैर कांच के टूटे हुए गिलास पड़ा। उस दिन तनु के पैर से जितना खून नहीं बहा उससे ज्यादा उसकी मां की आंखों से आंसू बहे थे। आखिर मां क्या करती बेचारी! क्योंंकि मां तो मां ही होती है ना।
  1. जब कभी चलते – चलते तनु के पैर डगमगाते या फिर वह गिर पड़ती। तो उसकी मां उसे सीने से लगाकर भरपूर सांत्वना देती और कहती बेटा कहीं चोट तो नहीं लगी? कोई बात नहीं बेटा अंदाजा लगाकर चला करो।
  1. वह तनु को सिर्फ सांत्वना ही दे सकती थी। लेकिन उसकी ममता अंदर ही अंदर बहुत रोती थी।कमला अपने आंसुओं को जताती नहीं थी। लेकिन जब वह तनु को अपने गले से लगाती थी। तो तनु को कमला की सिसकनों से पता चल जाता था कि मां का दिल रो रहा है। उस समय तनु सोचने लगती कि भगवान ने उसे बनाया ही क्यों है? एक बोझ और दूसरों पर निर्भर जिंदगी देकर …
  1. तब तनु अपनी मां से पूछती थी कि मां रो रही हो क्या? तब कमला बनावटी मुस्कान देकर बोलती थी। अरे ! नहीं – नहीं बेटा मैं क्यों रोऊंगी भला?
  1. तब कमला तनु को समझाने लगती और कहती पता है बेटा स्पेशल बच्चे बहुत खास होते हैं और भगवान उन्हें किसी न किसी खूबी के साथ बहुत सोच – समझकर बनाए होते है।
  1. तब तनु अपनी मां से कहती कि मां मुझमें क्या खूबी है? क्या खास है? तो कमला तनु से कहती कि होगी बेटा कोई ना कोई खूबी तो होगी ही। सही वक्त आने पर तुम्हें पता चल जाएगा।
  1. कमला तनु को दिलाशा तो दे देती थी। लेकिन कमला तनु के पापा विवेक के सामने आकर खूब रोती थी। और कहती थी कि विवेक हमने अपनी बेटी को अधूरी जिंदगी दी है। कैसे वो अपनी पूरी उम्र इस अंधेरी जिंदगी में बिताएगी? अगर मुझे कुछ हो गया तो घर पर उसे कौन संभालेगा?
  1. तब विवेक कहते थे कि चुप करो कमला हम तुम्हारा इलाज तो करवा रहे हैं। तुम्हे कुछ नहीं होगा। तुम जल्दी ही ठीक हो जाओगी। और हां अगर तुम ऐसे तनु के सामने रोती रही। तो उसको अपनी कमजोरी का एहसास होगा और हमें उसकी कमजोरी नहीं ताकत बनना है।
  1. फिर क्या हुआ एक दिन तनु अपनी मां के साथ सोफे पर बैठ कर बातें कर रही थी कि अचानक से एक छिपकली आकर तनु के कांधे पर गिरी। और  कमला जोर से चीखने – चिल्लाने लगी लेकिन छिपकली तो तुरंत ही जा चुकी थी।

यह भी पढ़ेअरुणिमा सिन्हा के आत्मविश्वास और जज्बे को सलाम

  1. कमला तनु को अपने सीने से लगाकर कस कर पकड़ कर हकलाने लगी तब तनु ने अपनी मां से कहा क्या हुआ मां ? 
  1. उस समय तनु का चेहरा देखने लायक था तनु के चेहरे पर डर की एक भी शिकन नहीं थी। तब कमला हकलाती हुई धीमी आवाज में बोली वो वो छिपकली बेटा…. तुम्हारे कांधे पर ….छिपकली …..तुम्हें कुछ हुआ तो नहीं मेरी बच्ची?
  1. तब तनु कहती है ओह ! कम ऑन (Motivational Story in Hindi) मां मुझे क्या होगा भला? मुझे क्या पता छिपकली क्या होती है? कैसी होती है? और किस आकार की होती है?  जिस चीज़ का मेरे जहन में कोई आकर ही नहीं है। फिर उससे डरना कैसा?
  1. उस दिन तनु को यह एहसास हुआ कि डर तो आंखों द्वारा दिखाई गई और बनाई गई एक छवि है। उस दिन उसे यह एहसास हुआ कि मेरे पास से कोई शेर भी गुजर जाए तो मेरे लिए वह भी उतना ही आसान होगा जितना एक इंसान का उसके पास से गुजर जाना है। क्योंंकि उसके मन में ऐसा कोई आकर ही नहीं है।
  1. उस दिन उसे यह पता चला कि इस अंधेरी दुनिया में यह उसकी एक खूबी है, उसकी जीत की।तब तनु सोचने लगी कि हर मां-बाप की अपनी औलाद को लेकर कुछ तमन्नाएं और कुछ इच्छाएं होती हैं तो मेरे भी  मां – पापा की  होंगी।
  1. अगर वह अपनी इच्छाओं, तमन्नाओं और सारे दुखों को भूल कर मेरे सामने मुस्कुरा रहे हैं तो मैं बदले में उनकी कमजोरी क्यों बनूं?
  1. वह सोचने लगी कि मां सही ही कहती है कि ईश्वर ने सबमें कोई न कोई खूबी दी है तो फिर मुझमें भी जरूर दी होगी।
  1. अगर भगवान ने मुझे आंखें न देकर जिंदा रखा है सांसे दी है तो जीने की कोई खास वजह भी दी होगी लेकिन वह वजह क्या है?
  1. तनु मन ही मन कहती है कि अगर मैं देख नहीं सकती तो इसका मतलब यह तो नहीं की मैं ईश्वर की दी हुई बाकी खूबियों को भी अनदेखा कर दूं।
  1. भगवान ने मुझे दिमाग दिया है, हाथ – पैर दिए हैं, सुनने और बात करने की शक्ति दी है, क्या यह कम है?

यह भी पढ़े127 बातें जो पाकिस्तान को बनाती है खास

  1. वह कहती है कि लोग रंग भेदते हैं। एक – दूसरे की सूरत देखकर मोहब्बत और नफरत करते हैं। लेकिन मेरे लिए तो यह सब एक समान है।मेरे लिए तो नफरत है ही नहीं। अगर कोई अपनी जुबान और स्पर्श से मोहब्बत का एहसास करवा दे। तो ऐसा तो है ही नहीं की मैं उसे एहसास ना कर पाऊं। ये कमी तो मुझे ईश्वर ने दी ही नहीं ….
  1. तो फिर दिन के उजाले और रात के अंधेरे से डर (Motivational Story in Hindi) कैसा मेरे लिए तो सब कुछ एक समान है। और वह सोचने लगती है और कहती हैं कि क्या यह दुनिया मेरे लिए वाकई में बहुत खास है? उस  दिन की उस एक घटना ने तनु के जिंदगी  देखने के नजरिये को ही बदल दिया था।
  1. अब तनु अपने स्पर्श और अपनी सोच से सब – कुछ सीखने और समझने की कोशिश करती थी। और वह अपने अंदर अपनी खूबी को हमेशा तलाशने की कोशिश करती रहती थी। जिससे कि उसके मम्मी – पापा को उस पर गर्व हो और उसको तथा उसके मम्मी – पापा को एक पहचान मिल सके।
  1. एक दिन तनु अपने मम्मी – पापा के साथ ट्रेन में सफर कर रही थी और वह खिड़की से बाहर ताजी और ठंडी हवा को महसूस कर रही थी। तभी उसके कानों में गाने की आवाज पड़ी और वह उस गाने में खो गई …. तनु ने अपने पापा से कहा की कितनी मीठी आवाज है। तब तनु के पापा ने तनु को बताया कि बेटा यह भी तुम्हारी ही तरह है जो देख नहीं सकती। इसकी भी आंखे नहीं है। यह अपने भाई के साथ गाने गा रही है। और  जिसको भी इस बच्ची की आवाज मीठी और अच्छी लगती है। वह उसको पैसे दे देते हैं। जिससे वह अपना जीवन यापन कर सके।
  1. यह बात तनु के दिल को छू गई। और वह सोचने लगी कि लोगों को गाने इतने अच्छे लगते हैं कि वह उनके बदले में पैसे देते हैं।
  1. तनु अब सफर से घर वापस आ चुकी थी और वह एक दिन घर पर टीवी में संगीत प्रतियोगिता को सुन रही थी। तभी उसकी मां ने उसे बताया कि ऐसे कई प्रोग्राम टेलीविजन पर आते हैं जैसे कि सा,रे,गा,मा, पा, इंडियन आईडल और राइजिंग स्टार ……
  1. तभी तनु को अचानक ट्रेन में उस लड़की के गाने वाली बात याद आ गई और वह सोचने लगी कि वह लड़की इतना अच्छा गाती है और लोगों को उसके गाने अच्छे भी लगते हैं तो वह टेलीविजन में क्यों नहीं गा सकती है?
  1. तनु तुरंत अपने पापा के पास गई और पूछने लगी की पापा वह लड़की देख नहीं सकती। तो क्या वह टेलीविजन पर गा नहीं सकती है। तब उसके पापा ने कहा हां बेटा वह बिल्कुल गा सकती है। लेकिन उसके पास न पैसा है, न कोई साधन है और न ही कोई जरिया है।
  1. तभी तनु ने अचानक अपने पापा से कहा कि पापा अपने पास तो सब कुछ है पैसा है, साधन है,और जरिया भी है तो फिर क्या मैं यहां तक नहीं पहुंच सकती? 
  1. वह कहने लगी कि पापा मेरी भी तो आंखें नहीं है। लेकिन मैं सुन तो सकती हूं, सीख तो सकती हूं और गा तो सकती हूं। तब विवेक ने कहा हां बेटा कर सकती हो।

यह भी पढ़ेआइए जानते हैं नागपंचमी क्या है और कब मनाई जाती हैं?

  1. लेकिन बेटा इसमें बहुत मुश्किलें आएंगी। सैकड़ों  प्रतिभागी होते हैं। इन सभी प्रतिभागियों को हराना इतना आसान नहीं है इन्हें देख कर अच्छे – अच्छे लोगों का पसीना छूट जाता है।
  1. तब तनु ने अपने पापा को समझाया और कहा कि पापा मेरे लिए तो सब कुछ काला है मेरे लिए तो सब कुछ एक समान है। मुझे क्या पता कि वहां पर एक लोग हैं या एक हज़ार (Motivational Story in Hindi) मेरे लिए तो बस मैं ही हूं। फिर इस बात से डरना कैसा?
  1. और कहने लगी कि मेरे लिए तो जमीन पर चलना भी आसान नहीं है तो फिर पापा मैं पर्वतों की ऊंचाई को कठिन कैसे कह दूं ? मेरे लिए संगीत ही मेरी मंजिल तक पहुंचने का एकमात्र रास्ता है।
  1. तनु का यह आत्मविश्वास देखकर कमला और विवेक बहुत खुश हो गए कि आज पहली बार उनकी बेटी ने दिल से कुछ करना चाहा है और जिंदगी को सकारात्मक तरीके से सोचा है। अतः उन्होंने तनु के लिए एक संगीत गुरु रख दिया।
  1. अब तनु संगीत सीखने में इतना खो गई थी कि न तो उसे  खाने की सुध रहती और न सोने की। वह सब कुछ भूलकर जी तोड़ मेहनत करती थी और संगीत सीखती थी, रियाज करती थी। तनु को इस क्षेत्र में अपनी पहचान बनाने का एक जुनून – सा चढ़ गया था।
  1. तनु को संगीत सीखने और अपनी आवाज में निखार लाने में लगभग 3 – 4 साल लग गए थे। उसके बाद तनु कई छोटी-छोटी प्रतियोगिताओं में भाग लेने लगी। तनु को कई बार हार का भी सामना करना पड़ता था।
  1. तनु को लोगों के ताने भी सुनने पड़ते थे। लोग कहते थे कि अब तो अंधे भी प्रतियोगिता में शामिल होने लगे हैं। तो कुछ दिन बाद गूंगे और बहरे भी आने लगेंगे।
  1. तनु को इस क्षेत्र में अपनी पहचान बनाने में बहुत – सी मुश्किलों का सामना करना पड़ता था। कई बार तो तनु को पार्टिसिपेट करने की इजाजत भी नहीं मिलती थी। दूर से इंकार कर दिया जाता था कि सीट फुल हो चुकी है।
  1. इससे तनु के मनोबल को बहुत चोट पहुंचती थी। लेकिन तनु टूटती नहीं थी क्योंकि उसने यह ठान लिया था कि चाहे जितनी ठोकरे लगें और चाहे जितनी मुश्किलें आएं वह वापस नहीं लौटेगी।
  1. तनु के मम्मी – पापा  तो हमेशा उसके साथ खड़े होते थे। लेकिन कुछ रिश्तेदार और पड़ोसी ऐसे थे जो कहते थे कि विवेक पागल हो गया है जो अपनी बच्ची को जो कि किसी दूसरे पर आश्रित है उससे कहां – कहां लेकर घूमता फिरेगा और इतना आसान नहीं है संगीत में अपनी जगह बनाना। 
  1. इस बात पर विवेक तो कुछ नहीं बोलते थे। लेकिन तनु जवाब देती और कहती थी कि आसान न सही मुश्किल ही सही लेकिन मैंने खुद से यह वादा किया है कि मैं संगीत में अपनी पहचान बनाऊंगी और एक दिन कामयाब जरूर होऊंगी।
  1. तब तनु का यह जवाब सुनकर उसके पड़ोसी विवेक से कहते कि विवेक संभालो अपनी बेटी को अभी से ही इसकी जबान इतनी चलने लगी है। अगर कुछ न हुआ तो इसकी सारी अकड़ धरी की धरी रह जाएगी।
  1. लेकिन वहीं कुछ दोस्त और पड़ोसी ऐसे थे। जो हमेशा तनु और उसके घरवालों का सपोर्ट करते थे। वह विवेक से कहते थे कि भगवान आपकी बच्ची को मनोबल दे और कामयाबी दे।
  1. तनु लगातार मेहनत करती रहती थी और कोशिश करती रहती थी लेकिन कहीं न कहीं कोई कमी रह जाती थी। जिसकी वजह से उसे हार का सामना (Motivational Story in Hindi) करना पड़ता था। लेकिन तनु का मनोबल टूटता नहीं था वह कहती थी इस बार मैं और मेहनत करूंगी। और जीत हांसिल करूंगी।
  1. फिर क्या इस बार तनु को मुंबई में इंडियन आईडल में सेलेक्ट कर लिया गया था। तनु के साथ उसके मम्मी और पापा दोनों जाने वाले थे। अब तनु के मम्मी – पापा को यह एहसास हो गया था कि उनकी बेटी ने इस बार जी – तोड़ मेहनत की है। जिससे उसको इतनी बड़ी जगह पर सेलेक्ट किया गया है।
  1. तनु की मम्मी को तनु से बहुत सारी उम्मीदें थी। उन्हें यकीन था कि इस बार उनकी तनु जीत के साथ ही वापस आएगी।
  1. लेकिन वह कहते हैं न कि होनी को कौन टाल सकता है। जाने के एक दिन पहले ही कमला की तबीयत अचानक खराब हो गई क्योंकि कमला को थर्ड स्टेज का ब्रेन कैंसर था। विवेक कमला को ऐसी हालत में छोड़कर जाने वाला नहीं था लेकिन कमला ने विवेक को आश्वासन दिया कि थोड़ा आराम कर लूंगी तो ठीक हो जाऊंगी। अगर ठीक नहीं लगेगा तो मैं पड़ोस में तनु के चाचा – चाची को बुला लूंगी।
  1. कमला ने कहा कि तनु के लिए यह मौका बहुत ही खास है और उसे खुद को साबित करना है और हमारा भी तो यही सपना था कि तनु को कामयाबी मिले। ऐसे में हम ही तनु की राहों में रुकावट कैसे बन सकते हैं? बस आप जाओ वहां न सही टेलीविजन पर तो देखी ही सकती हूं।
  1. विवेक बड़ी ही मुश्किल में था उसे समझ नहीं आ रहा था कि वह किस कर्तव्य का पालन करे। एक तरफ बेटी थी, तो एक तरफ पत्नी।
  1. अंत में विवेक तनु को लेकर मुंबई गया रास्ते भर तनु और विवेक से कमला की बातें होती रही।
  1. कमला रास्ते भर तनु को समझाती रही कि बेटा इस बार तुम्हें कामयाब सिंगर बन कर ही लौटना है यहां की चिंता मत करना। यहां पर तुम्हारे चाचा – चाची है मेरे पास मेरा ख्याल रखने के लिए।
  1. अब शो शुरू होने में एक ही घंटे रह गए थे की तनु के चाचा का फोन आया और उन्होंने कहा कि कमला हमें छोड़ कर इस दुनिया से हमेशा – हमेशा के लिए चली गई है।
  1. अब तनु और विवेक न तो रो पा रहे थे और नाही यह जता पा रहे थे।उन्हें ऐसा लग रहा था कि सब कुछ छोड़ कर वापस चले जाएं।वह दोनों सोच रहे थे कि जिसने आज के दिन का इतने दिनों से इंतजार किया था इतने सारे सपने देखे थे आज वो है ही नहीं।
  1. तनु ने कसकर अपने पापा का हाथ पकड़ा और कहा कि पापा मुझे अब मां के पास जाना है।
  1. लेकिन कुछ देर बाद तनु को यह एहसास हुआ की वापस जाकर भी क्या करूंगी? मां तो अब है ही नहीं मां को तो अब वापस पा नहीं सकती। लेकिन अगर यह शो बीच में छोड़कर चली गई तो शायद मम्मी के सपने (Motivational Story in Hindi) और उम्मीदें अधूरी रह जाएंगी। क्योंकि मम्मी ने आते वक्त कहा था कि कामयाबी लेकर ही आना।
  1. तनु को यह एहसास हुआ कि शायद यह मेरा इम्तिहान है कि मैं मुश्किलों (Motivational Story in Hindi) के सामने घुटने टेक देती हूं या फिर सब्र बांधती हूं।
  1. तनु ने यह तय कर लिया था कि उससे अब यह शो करके ही वापस लौटना है वह हार नहीं मान सकती और न ही अपनी मां की उम्मीदों को हारने देगी। तनु ने अपने पापा से कहा कि मुझे यह शो करना है।
  1. शो शुरू हुआ और तनु ने चुनौतियों का सामना करते हुए अपनी मम्मी के प्यार भरे स्पर्श को महसूस करते हुए गाना गाया।
  1. तनु ने ऐसा गाना गाया कि उसके दिल से निकलने वाले दर्द भरे सुरों नें सबके दिलों को भेद दिया था और सबकी आंखें नम हो गई थी।
  1. शो के अंत में जब तनु से पूछा गया कि वह इतने दिल से कैसे गा लेती है?और उसकी प्रेरणा का स्त्रोत कौन है? तब तनु ने जवाब दिया कि जिसके लिए उसने यह गाना गाया है और जिसकी वजह से यहां तक पहुंची है वह कुछ ही घंटों पहले उसे छोड़कर इस दुनिया से चली गई हैं और वह उसकी मां हैं। 
  1. शो में सुनने वाले सभी लोगों ने तनु की हिम्मत और सब्र की दाद दी और जजों ने उसे ट्रॉफी थामते हुए उसकी पीठ थपथपाई। 
  1. शायद तनु की यही कामयाबी उसकी मां के लिए अच्छी श्रद्धांजलि थी।

वैसे तो तनु का गाना परफॉर्मेंस के परिणाम से बहुत ज्यादा अच्छा और ऊपर था। लेकिन जजों ने तनु को ट्रॉफी देकर कहा कि इस कहते हैं कि मुश्किलें चाहे कितनी भी बड़ी क्यों ना हों, हौंसले की जीत होती है जो कभी हार (Motivational Story in Hindi) नहीं मान सकती।

आज तनु ने यह साबित कर दिया था कि कोई भी शारीरिक लाचारी आपकी कामयाबी की राहों को नहीं रोक सकती है।

अगर आपमें कुछ करने का जुनून है,अगर आपका  जज्बा और हौंसला मजबूत है तो कोई भी बड़ी से बड़ी मुश्किलें आपकी जीत के रास्ते में इतनी बड़ी वजह या बाधा नहीं बन सकती हैं। कि आप हार मान लें।

यह भी पढ़ेऐसी और रोचक कहानियो को पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो इसे लोगों को शेयर करें। क्योंकि ज्ञान बांटने से बढ़ता है और हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब भी कर ले जिससे आपको हमारे नए पोस्ट की Notification सबसे पहले मिले और कोई भी पोस्ट Miss ना हो। अगर आपके मन में कोई प्रश्न उठ रहा हो तो हमे कमेंट बॉक्स में बताये। हम आपके प्रश्नो का उत्तर अवश्य देंगे। धन्यवाद !!

और पढ़े

About the author

Anamika Garg

Anamika Garg

I am 17 years old content writer. I am learning here to write articles in the fields of Technology, Innovation, Facts, Biography, Life Hacks and Viral Talks. I am interested to learn about new things and doing them.

View all posts

1 Comment

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *