personality development

पर्सनालिटी डेवलपमेंट के लिए टिप्स

  • पर्सनालिटी डेवलपमेंट की सबसे ख़ास बात जो लोगों को बताई जाती है, वो यह है की किस तरह आपको खुद को पेश करना चाहिये। अगर आप किसी से मिलने जाते है और आपको कोई बात पसंद नहीं आती है तो उस वक़्त जरुरी नहीं है की आप उसकी हर बात से सहमत रहें आपको एक सहज़ अंदाज़ में आपकी ना पसंद के बारे में बता देना चाहिये। जो हैं वैसा बर्ताव (बी रियल), जब भी आप किसी से बात करें तो उस बात का कोई मकसद हो, कई लोगों को सुनने की आदत नहीं होती है और यह लोगों की सबसे बड़ी खामी है अगर आप बोलना चाहते हैं तो दूसरों की भी सुनना चाहिये। जब कोई जोक्स मारते है तो भले ही कितना आम जोक्स क्यूँ न हो आपको सबके साथ मुस्कुराना चाहिये, हसना चाहिये।
  • इन सभी बातों में सबसे ज्यादा जरुरी यह है की आपकी सोच सकारात्मक होनी चाहिये। दुनिया में जरुरी नहीं है की सभी चीज़े आपके अनुरूप चलें, कभी कभी इस बात की निराशा हो जाती है। लेकिन सोचने की बात यह है की जो हो गया उस पर किसी का काबू नहीं है जो है और आने वाला है हम उसके बारे में सोचें और निरंतर कार्य करते रहें, और अपनी ताकत को पहचाने कि आप कहाँ अच्छे है और कहाँ आप कमज़ोर पड़ सकतें है। और ऐसी किसी भी बात या विवाद में ना पड़े जिसके बारे में आपको कोई ज्ञान ना हो।
  • सभी की जिन्दगी अलग अलग तरह से ढली होती है। कुछ लोगों के जीवन में परिश्रम ज्यादा होता है और कुछ लोग आसानी से चीज़े हासिल कर लेते है। लेकिन यह बात हम सबको समझने की जरुरत है की सबकी जिन्दगी अलग होती है और हर कोई उसके हिसाब से मेहनत करता है। तो जरुरी नहीं है की जो आप सोच रखते है वही सामने वाला भी रखता हो।
  • कार्य उतना ही हाँथ में लेना चाहिए जितना आप कर सकें। ज्यादा कार्य लेकर, कम काम करने से ग़लतफ़हमी बढती है। इसलिए आपको यह पता होना चाहिए है की आपकी क्षमता क्या है। आपकी यह जवाबदारी हो जाती है की जो आपने वादे किए है उसे पूरा करें। कई ऑफिस में टारगेट दिए जातें है, और ऐसे समय बॉस को ना बोलना कठिन होता है। लेकिन बॉस को हाँ बोल कर काम ना करना आपकी जॉब पर खतरा पड़ सकता है। इसलिए अगर आप वो कार्य ना कर पा रहें हो तो आप अपने बॉस से इस बारे में चर्चा करें। और कार्य को सटीकता से करने का प्रयास करें।
  • और साथ ही ज्यादा से ज्यादा समय अपनी कार्य को दे और जब आप का कार्य ख़तम हो जाये तो फिर आप पूरा समय अपने आप को दें। क्यूंकि एक बहुत पुरानी कहावत है “आल वर्क एंड नो प्ले मेक्स जैक अ डल बॉय” जिसका मतलब यह हुआ की काम और आपकी निजी जिन्दगी दोनों ही जिन्दगी के वो पहलु है जिसके बिना गुज़ारा नहीं होता है।

खुद को कैसे पेश करें :

  • खुद को सही तरीके से पेश करके आप अपने लिए एक सकारात्मक छवि (पाज़िटिव इमेज) कायम कर सकते हैं। आपका पहला प्रभाव ही ये बता देता है कि आप कितने गरिमामयी और बेहतरीन व्यक्तित्व के मालिक हैं।

खुद को बेहतर ढंग से पेश करने के लिए ये तरीके अपनाएं –

  • सही मौके पर सही कपड़े पहनें।
  • अपने नाक नक्श और व्यवसाय के मुताबिक सही आकार और स्टाइल में बाल कटवाएं।
  • रोज़ नहाएं
  • साफ सुथरे और इस्त्री किए हुए कपड़े पहनें।
  • पॉलिश किए हुए साफ जूते पहनें। हो सके तो जूते और बेल्ट एक ही रंग के पहनें।
  • सीधे और तनकर खड़े हों, ताकि आपमें आत्मविश्वास झलके।
  • अपने दांतों को स्वस्थ्य रखें, ताकि मुंह से बदबू न आए। अगर बदबू आती हो, तो डाक्टर से मिलें, या माउथफ्रेशनर का इस्तेमाल करें।
  • नाक और कान के बाल हमेशा काट कर रखें।
  • नाखून साफ सुथरे रखें। अगर नेलपालिश लगानी ही है, तो हल्के रंग का इस्तेमाल करें।
  • ऑफिस में बेहद हल्का मेकअप करें, और बीच ऑफिस में बैठकर तो कतई मेकअप ना करें।
  • फिजूल की एसेसरीज़ ऑफिस में ना पहनें जैसे टैटू, खूब सारी मालाएं और चूड़ियां।
  • अगर आपके शरीर से पसीने की बदबू आती है, तो डियोड्रेंड और बाडी स्प्रे का इस्तेमाल करें, लेकिन एक बार में इनका ज़्यादा प्रयोग ना करें, क्योंकि तेज़ सुगंध सामने वाले को नापसंद हो सकती है।
  • हो सके तो अपने बाल शैम्पू से धोएं, ताकि वो स्वस्थ्य और चमकीले दिखें।
  • माइस्चराइज़र क्रीम लगाएं, जिससे आपकी त्वचा रुखी और परतदार ना लगे।

लोगों से डील (व्यव्हार) करने के तरीके :

अक्सर होता यूँ है की जब भी आप लोगों की बात करते है तो सबकी विचार धाराये अलग अलग होती है। इसलिए जब भी बिज़नस की बात की जाती है तब हमे इस बात का ख्याल रखना चाहिये की बिज़नस आपके हाँथ में होना चाहिये। लोगों से डील करने के तरीके पर ध्यान देते है।

  • सबसे आसन तरीका कभी किसी की आलोचना न करें, किसी की बुराई न करें और न ही किसी की शिकायत करनी चाहिये।
  • जब भी आपसे पुछा जाये तो आप अपना नजरिया स्पष्ट और ईमानदारी से बताये। अगर आपको लगता है की कोई चीज़ नहीं होनी चाहिये तो उस समय किसी से झगडे नहीं बल्कि अपना पक्ष रखते हुए उन्हें सोचने पर जोर दे। क्यूंकि यह भी हो सकता है की आप अपना पक्ष रखते समय कुछ भूल गए हो, और आपका पक्ष कमजोर भी हो सकता है।
  • दूसरों की बातों में आप इंटरेस्ट ले क्यूंकि हो सकता है की वो आपके बिज़नस डेवलपमेंट का एक हिस्सा बन सकें।
  • दूसरों से नेटवर्किंग करते रहें क्यूंकि यह बिज़नस का बहुत जरुरी हिस्सा है। लोगो से मिलते रहे, ड्रिंक्स डिनर आदि पर लोगों को बुलाये और निरंतर नेटवर्किंग करते रहें।
  • लोगों के साथ कुछ ऐसे विषय जो आप दोनों के बीच सामान्य हो मसलन आप लोगों के पसंद न पसंद, फिल्मे, म्यूजिक, गेम्स। आदि इससे आपको एक दुसरे को समझने का मौका मिलता है।
  • लोगों का बर्थडे और सालगिरह याद रखें और उन्हें बधाई सन्देश भेजे।
  • जब भी आप बात करें तो ऐसी बात करें की लोगों को उसमे इंटरेस्ट आये वो उन बातों का हिस्सा बन सकें। अधिकांश समय हम अपने बारे में बात करते है जिसमे लोग कम रूचि लेते है।
  • दुसरे लोगों को एहमियत देना चाहिये, और यह काम पूरी निष्ठा से करनी चाहिये।

जॉब पर क्या करें, क्या ना करें?

समय पर पहुंचे: 

  • यदि आप कुछ मिनट देर से पहुंचने वाले हों तो पहले बॉस को फोन करके सूचना दे दें।

ग्राहकों के सामने अपना धीरज ना खोएं: 

  • आप ग्राहकों के साथ बहस में अपना धीरज ना खोएं। यदि आपको गुस्सा आए तो कुछ समय के लिए शांत हो जाएं, दस तक गिनती गिनें और कुछ भी कहने से पहले पूरी तरह शांति की हालत में आ जाएं।

अपने बॉस और सहपाठियों के साथ बहस न करें: 

  • यदि वे ग़लत हैं और आप सही हैं फिर भी बहस से बचे क्योंकि इससे आपको कोई मदद नहीं मिलेगी।

पॉज़िटिव (सकारात्मक) रवैया अपनाएं:

  •  बुरा बर्ताव करने वाले व्यक्ति के साथ कौन काम करना चाहेगा। आप अपनी निजी समस्या अपने घर तक रखें। जब आप काम पर हों तो पॉज़िटिव (सकारात्मक) बने रहें।

सवाल करें: 

  • नौकरी पर अपने काम को अच्छी तरह से समझ लें। जिस काम में शंका या संदेह हो, उसके बारे में अपने बॉस या सहपाठियों से तुरंत पूछें और उनके मार्गदर्शन पर अमल करें।

प्रश्नों के उत्तर देने के तरीके :

  • यहां parent और teachers के लिए कुछ सुझाव हैं जो उन्हें अपने बच्चे या छात्र के बिना परेशानी के sex education से सम्बन्धित जानकारी देने में सहायक होंगे।
  • Reproduction, स्वास्थ्य और sexuality पर बच्चों के बहुत से प्रश्न होते हैं और वे प्रश्न कभी-कभी हमें बहुत अजीब प्रतीत होते हैं। आयु के बढ़ने के साथ-साथ प्रश्न और भी कठिन हो जाते हैं और उनका उत्तर जानते हुए भी देना कठिन हो जाता है। अंतः सही सही और वैज्ञानिक जानकारी के साथ निम्न तीन बातों का ध्यान रखना जरूरी है:
  • सुझाव (a): उन्हें यह बता दें कि प्रश्न पूछना ठीक बात है।
  • उदाहरणतः यह कह कर उत्तर दें: ‘‘यह अच्छा है कि आपने यह प्रश्न पूछा। यह एक बहुत अच्छा प्रश्न है।‘‘ साथ ही यह आपको एक अच्छा उत्तर सोचने के लिए कुछ समय प्रदान करेगा।
  • सुझाव (b): सुनें
  • जिस विषय पर वे प्रश्न पूछ रहे हैं उनसे उस विषय के बारे में प्रश्न पूछकर जानकारी लें कि वे पहले से उस विषय के बारे में क्या जानते हैं ‘‘क्या आप मुझे बता सकते हैं कि आप उस विषय के बारे में क्या जानते हैं?‘‘
  • सुझाव (c):  सच्ची, लाभदायक और सटीक जानकारी दें।
  • यह ठीक है कि आपको उत्तर मालूम नहीं है, अंतः आप यह कह सकते हैं कि ‘‘मुझे कुछ पक्का मालमू नहीं है। आओ इसका उत्तर पता करें।

बढ़ते हुए बच्चों द्वारा पूछे जाने वाले प्रश्नों का उत्तर कैसे देना है:

अपने सोच को अलग रखें :

  • बतौर एक व्यक्ति, कोई भी अपने वार्तालाप में अपने व्यक्तिगत अनुभवों, विचारों और मानकों को शामिल करने का प्रयास करता है। इस हालत में दूसरे विचार और अनुभव वाले लोग बातों को सामने रखने में असहज महसूस कर सकते हैं। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप युवाओं के प्रश्नों का उत्तर देते समय अपने स्वयं के मनकों को हावी नहीं होने दें। यह आपको और आपके बच्चे/छात्र के एक आरामदायक तरीके से बात करने में सहायक होगा। आपका बच्चा/छात्र आपसे बात करने में सहज हो जाएगा और अधिक खुलकर आपसे अपने प्रश्न पूछेंगे और आप आश्वस्त होंगे कि उन्हें सही जानकारी मिल रही है, क्योंकि आप ही उन्हें जानकारी प्रदान कर रहे हैं।

अपने हावभाव की ओर ध्यान दें :

  • युवा हावभाव के प्रति संवेदनशील होते हैं इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप उन्हें किसी विषय पर अपने निर्णय न थोपें बल्कि उन्हें निर्णय लेने के लिए उचित और जानकारी प्रदान करें।

संवेदनशील मुद्दों पर आराम से बातचीत करें :

  • Sexuality और reproductive health के इन संवेदनशील मुद्दों पर आराम से बातचीत करें: आपको विषय और दी जानकारी जाने वाली पर अधिक शोध करने और स्वयं को बातचीत से पहले तैयार करने की आवश्यकता है। छात्रों को ऐसा महसूस नहीं होना चाहिए कि आप खुद ही प्रजनन और सैक्सुअल स्वास्थ्य के मुद्दों पर बात करने में शरमा रहे हैं।

गुप्तता और गोपनीयता सुनिश्चित करें :

  • अभिभावक बच्चे के साथ बात करते समय यह ध्यान रखें कि उनके और बच्चों की बात कोई और नहीं सुन रहा। विशेषकर एक अध्यापक के लिए किसी छात्र/छात्रा की गुप्तता और गोपनीयता सुनिश्चित करने के लिए उसे प्रश्नों के उत्तर देते समय हमेशा ध्यान में रखना पड़ेगा कि वह प्रश्न पूछने वाले के बारे में किसी को नहीं बतायेगा। (उदाहरणतः कक्षा में प्रश्न पूछने वाले का नाम बोलने से हमेशा बचना चाहिए। चाहे चार्ट में भी नाम लिखा हो तब भी नाम नहीं लेना चाहिए। कभी भी प्रश्न पूछने वाले छात्र के नाम का खुलासा नहीं करना चाहिए। प्रश्न का उत्तर देते हुए उदाहरण बताते समय कभी भी छात्र को सीधे संबोधित न करें। छात्रों को गोपनीयता के प्रति आश्वस्त करने हेतु अध्यापक कुछ तरीके अपना सकता है जैसे कि कक्षा में प्रश्न पेटिका रखना। छात्रों को कहा जाता है कि वे अपने प्रश्न पेटी में डाल सकते हैं और अगर वे न चाहें तो अपनी विस्तृृत जानकारी उस पर न लिखें।

उचित Eye Contact बनाएं रखें :

  • यह एक सकारात्मक मौखिक सूत्र है कि यह भाव व्यक्त करता है कि आप अपने बच्चे/छात्र की ओर ध्यान दे रहे हैं।

सामान्य तौर पर उत्तर दीजिए:

  • यह अनुमान न लगाएं कि प्रश्न लड़के के लिए है या लड़की के लिए या फिर किसी विशिष्ट आयु के लिए। प्रश्न किसी के द्वारा और किसी भी आयु के छात्र द्वारा पूछा जा सकता है। जब आप प्रश्न करने वाले के बारे में कुछ निश्चित न हो तो उत्तर को सामान्य बना दें ताकि वह लड़के और लड़कियों दोनों पर लागू होता है। उदाहरणत हस्तमैथुन से संबंधित प्रश्न के मामले में। अपने उत्तर में अगर आप लिंग या आयु विशेष के बारे में कहेंगे, तो आप अंजाने में यह संदेश भेजेंगे कि यह मामला केवल लड़के या लड़की या किसी विशेष आयु तथा दूसरे लिंग या अन्य आयु समूह के प्राणियों में असामान्य बात है। अतः प्रश्नों का उत्तर देते समय लिंग और आयु के मुद्दों को ध्यान में रखना महत्वपूर्ण होता है।

About the author

Fuggy Pandey

Fuggy Pandey

I am a content writer who specialized in writing about Facts, Technology, Life Hacks, Biography and Trending content. I'm working with a great team and have enjoyed the opportunities they have given me to help their knowledge grow.

View all posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *