pradhan mantri mudra yojana
Photo by cottonbro from Pexels

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना क्या है?

देश में छोटे और मध्यम आकार के उद्योगों (Small Business/MSME) की वित्तीय आवश्यकताओं (Financial Needs) को पूरा करने के लिए भारत सरकार ने अप्रेल 2015 में प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY) की शुरुआत की हैं। 8th अप्रैल 2015 से लागू की गयी प्रधान मंत्री मुद्रा योजना (PMMY ) का उद्देश्य पढ़े लिखे नौजवानो के हुनर को बढ़ावा देना साथ ही महिलाओ को सशक्त बनाना है। हमारे देश में कई ऐसे छोटे मोटे बिज़नेस मैन है जिनको बैंक से आर्थिक मदद आसानी से नहीं मिलती क्योकि वे बैंक के नियमो को पूरा नहीं कर पाते है इस कारण वे अपने उधोगो को बढ़ाने में असमर्थ होते है। इसी बात को ध्यान में रखकर भारत सरकार ने लघु उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए Mudra (Micro Units Development Refinance Agency) Scheme को लांच किया हैं। PMMY के तहत हर वो व्यक्ति जिसके नाम कोई लघु उधोग है या किसी के साथ पार्टनरशिप बिज़नेस है वे इस प्रधानमंत्री मुद्रा योजना से लोन ले सकते है।

मुद्रा लोन के प्रकार :- 

मुद्रा योजना के तहत मुद्रा लोन को विभिन्न व्यवसायों की ज़रूरतों को ध्यान में रखते हुए तीन भागो में बांटा है –

मुद्रा योजना के तहत लोन के तीन प्रकार है । 

शिशु लोन –

  • शिशु लोन के तहत 50000/- रूपये तक लोन दिए जाते है।

किशोर लोन –

  • किशोर लोन के तहत 50000/- रूपये के ऊपर और 5 लाख रूपए तक के ऋण दिए जाते है।

तरुण लोन –

  • तरुण लोन के तहत 5 लाख रूपये से ऊपर और 10 लाख रूपये तक के लोन दिए जाते है।

यह भी पढ़ेनई मंजिल योजना क्या है?

यह भी पढ़ेप्रधानमंत्री फसल बीमा योजना क्या है?

मुद्रा योजना के लाभ :-

  • मुद्रा स्कीम के तहत सामान्यत: बिना गारंटी के लोन प्रदान किये जाते हैं
  • मुद्रा योजना के तहत लोन प्रदान करने में किसी भी तरह की प्रोसेसिंग फीस चार्ज नहीं की जाती हैं। 
  • मुद्रा लोन की पुनः भुगतान अवधि (Repayment Period) को 5 वर्ष तक बढाया जा सकता हैं।
  • Working Capital Loan को मुद्रा कार्ड के द्वारा प्रदान किया जा सकेगा।

योग्यता :-

  • कोई भी भारतीय नागरिक या फर्म जो किसी भी क्षेत्र (खेती के आलावा) में अपना व्यवसाय शुरू करना चाहता हैं या फिर अपने वर्तमान व्यवसाय को आगे बढ़ाना चाहता हैं और उसकी वित्तीय आवश्यकता 10 लाख रूपये तक हैं वह प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत Loan के लिए आवेदन कर सकते हैं।

मुद्रा योजना के तहत आवेदन कैसे करें?

STEP 1: 

जानकारी जुटाना और सही बैंक का चुनाव करना –

  • मुद्रा योजना के तहत लोन के लिए Apply करने की कोई निश्चित प्रक्रिया नहीं हैं।
  • लोन लेने के लिए आवेदक को सर्वप्रथम अपने आस-पास के बैंकों से संपर्क करके लोन की प्रक्रिया और Interest Rate सम्बन्धी पूरी जानकारी जुटा लेनी चाहिए।
  • लोन प्राप्त करने के लिए आपको एप्लीकेशन फॉर्म भरना होता हैं और उसके साथ कुछ डाक्यूमेंट्स सबमिट करने होते हैं।

यह भी पढ़ेप्रधानमंत्री जन धन योजना क्या है?

यह भी पढ़ेस्वच्छ भारत अभियान क्या है ?

STEP 2 : 

डाक्यूमेंट्स तैयार करना और एप्लीकेशन सबमिट करना – 

Loan प्रदान करने के लिए बैंक सामान्यत: आपकी वित्तीय आवश्यकताओं के आधार पर दो तरह की जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं जिसमें वे विभिन्न तरह के डाक्यूमेंट्स की मांग कर सकते हैं:-

  • विभिन्न दस्तावेजों जैसे पिछले दो वर्षों की Balance Sheet, Income Tax Returns और आपके वर्तमान व्यवसाय की जानकारी जुटाकर यह जानने की कोशिश करते हैं कि क्या आप ब्याज सहित लोन वापस चुकाने की क्षमता रखते हैं या नहीं।
  • बैंक यह जानने की कोशिश करते हैं कि आपके बिज़नेस में कितनी Risk हैं ताकि वे यह सुनिश्चित कर सकें कि उनके द्वारा दिया गया पैसा सुरक्षित रहेगा।
  • बैंक आपके भावी Business Plan, Project Report, Future Income Estimates आदि के द्वारा यह जानने की कोशिश करते हैं कि बैंक द्वारा दिये गए Loan का उपयोग किस प्रकार के कार्यों में किया जाएगा और उस लोन के कारण Business का लाभ कितना और कैसे बढेगा।

STEP 3

लोन प्रोसेसिंग –

  • Proper Documents के साथ एप्लीकेशन फॉर्म जमा करने के बाद बैंक आपके डाक्यूमेंट्स की जांच करेगी और पूरी तरह से संतुष्ट होने के लिए वे कुछ और डाक्यूमेंट्स की भी मांग कर सकते हैं।
  • इस प्रक्रिया में कुछ दिनों का समय लग सकता हैं और लोन प्रोसेसिंग की प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद आपको Disbursement Amount का चेक दे दिया जाएगा जो आवेदक के बैंक खाते मे जमा किया जाता है।
  • बैंक यह सुनिश्चित करती हैं कि लोन की राशी आपके बिज़नेस या उसी उद्देश्य के लिए ही खर्च हो, जिसके लिए लोन दिया गया हैं।
  • इसके लिए वे कई कदम उठाते हैं जैसे अगर आवेदक ने अपने प्रोजेक्ट मे कोई बड़ी मशीनरी या इक्विपमेंट खरीदनी है, तो भुगतान चेक के माध्यम से ही किया जाए।

यह भी पढ़ेस्टार्टअप इंडिया स्टैंडअप इंडिया क्या है?

यह भी पढ़ेबेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना क्या है?

लोन एप्लीकेशन का रिजेक्शन :-

  • अगर आवेदक के डाक्यूमेंट्स और दर्शाया गया उद्योग / व्यापार प्रोजेक्ट बैंक को सही नहीं लगता तो बैंक आवेदक की एप्लीकेशन को रिजेक्ट भी कर सकता हैं।
  • अगर डाक्यूमेंट्स और एप्लीकेशन मे कोई छोटी मोटी गलती हो तो बैंक ही आवेदकको मार्गदर्शन दे कर उसे ठीक करवा कर लोन की मंजूरी दे देता है।

मुद्रा कार्ड :-

  • मुद्रा लोन लेने वाले सभी आवेदकों को लोन प्रदान करते समय मुद्रा कार्ड (Rupay Debit Card के रूप में) जारी किये जायेंगे जो कि एक तरह से डेबिट कार्ड की तरह ही होंगे। इसके तरह व्यवसायी अपने मुद्रा लोन की 10% तक राशी मुद्रा कार्ड से खर्च कर सकेगा।
  • मुद्रा कार्ड का उद्देश्य व्यवसायी की Working Capital (चालू पूंजी) की जरूरतों को पूरा करना हैं ताकि व्यवसायी अपने बिज़नेस के रोजमर्रा के खर्चों का मुद्रा कार्ड के द्वारा भुगतान कर सके और ब्याजखर्च को कम कर सके।

मुद्रा स्कीम हेल्पलाइन :- 

अगर मुद्रा लोन लेते समय कोई समस्या आये तो आप इस हेल्पलाइन वेबसाइट, मेल और फ़ोन नंबर पर संपर्क कर सकते हैं –

  • मुद्रा योजना वेबसाइट – http://www.mudra.org.in/ 

National Helpline Numbers For Pradhan Mantri Mudra Yojana – Call – 1800 180 1111 call – 1800 11 0001

यह भी पढ़ेआइए जानते हैं नागपंचमी क्या है और कब मनाई जाती हैं?

और पढ़े

About the author

Fuggy Pandey

Fuggy Pandey

I am a content writer who specialized in writing about Facts, Technology, Life Hacks, Biography and Trending content. I'm working with a great team and have enjoyed the opportunities they have given me to help their knowledge grow.

View all posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *