cold drinks

कोल्ड ड्रिंक्स (Cold-Drinks) क्यों नहीं पीनी चाहिए? जानिए इसके नुक्सान।

क्या आप भी कोल्ड ड्रिंक्स के शौकीन हैं? अगर हां तब तो फिर मोटापा,हर समय बनी रहने वाली थकान, मूड स्विंग, बेडौल फिगर को आप भी बहुत पसंद होंगे। हम सब जानते हैं कि कोल्ड ड्रिंक्स चाहे किसी भी तरह की हो, किसी भी कम्पनी की हो हमारी सेहत के लिए हानिकारक ही होती है,लेकिन सब कुछ जानने के बाद भी हम कोल्ड ड्रिंक्स का सेवन दुगनी रफ्तार से कर रहे हैं। टी वी पर बताए जाने वाले एड्स या फिर अपने आस पास लोगो को देखकर एक सामान्य इंसान के मन में कोल्ड ड्रिंक पीने की इच्छा हो ही जाती है। आजकल सुबह नाश्ते में दूध से ज्यादा पैक्ड जूस या कोल्ड ड्रिंक की मांग बढ़ रही है। अमेरिका में हुई एक स्टडी के अनुसार ये बताया गया है कि सोडा ड्रिंक की बिक्री ने हेल्दी स्पोर्ट्स ड्रिंक को पीछे छोड़ दिया है।

ज्यादातर गरमियों में हम इसका सेवन प्यास बुझाने और शरीर को ठंडा करने के लिए करते हैं।लेकिन इसके अंदर carbonated water ,चीनी, harmful acid और artificial  कलर मिला हुआ होता है जो हमारे शरीर को ठंडा करने के बजाय body में सुगर level को बढ़ा देता है।

मजे की बात तो ये है कि जो लोग कोल्ड ड्रिंक पीते हैं उन्हें यह पता भी नहीं होता है कि उनकी सेहत में आयी अलग अलग प्रॉब्लम की वजह यही कोल्ड ड्रिंक ही है।इसे पीने के 5 मिनट बाद ही यह अपना असर दिखाना शुरू कर देती है।

कोल्ड ड्रिंक में पाए जाने वाले जरूरी पोषक तत्व-

  • 100 ग्राम कोल्ड ड्रिंक जब हम पीते हैं तो उसमें 4 मिली ग्राम सोडियम, 2 मिली ग्राम पोटैशियम , 10 ग्राम कार्बोाइड्रेट जिसमें से 9 ग्राम सुगर होती है, 0.1 ग्राम प्रोटीन और 8 मिली ग्राम कैफ़ीन की मात्रा होती है।
  • इसके अलावा इसमें कोई भी विटामिन नहीं होता है जो हमारी सेहत के लिए अच्छा होता हो।
  • इसे पीने से फायदा बहुत कम पर नुक़सान बहुत ज्यादा होता है। तो आइए देखते हैं कि वो फायदे और नुक़सान कौन कौन से हैं –

कोल्ड ड्रिंक के फायदे –

  • कोल्ड ड्रिंक में कैफ़ीन होता है जो हमारी body  के nervous system को सही रखने में मदद करता है।
  • हमारे लिवर में जो भी fatty acids बनते हैं उनको बनने से रोकने में यह सहायक होता है।
  • हमारे मूड को भी fresh कर देता है।
  • कोल्ड ड्रिंक में सोडियम होता है जो कि human body  के बहुत से function को रेगुलेट करता है। जैसे कि body में इलेक्ट्रोलाइट को कंट्रोल करना, muscle cramps  को कम करना आदि ये सारे काम ये करता है।

कोल्ड ड्रिंक के नुक़सान – 

कोल्ड ड्रिंक पीने की आदत शौक से शुरू होती है और फिर addiction बन जाती है। इसे पीने के फायदे कम हैं लेकिन नुकसान बहुत ज्यादा हैं।

जैसे – 

  • रोज एक कोल्ड ड्रिंक पीने का बुरा असर हमारे दांतो पर पड़ सकता है।इसमें सोडा होता है जो हमारे दांतो कि enamel परत को गला देता है।इससे दांत कमजोर बनते हैं और सड़ने लगते हैं।जब हम सोडा पीते हैं तो इसमें मौजूद एसिड हमारे मुंह के saliva में मिलने लगते हैं।इसे normal होने में लगभग 20 मिनट लग जाता है। University of Michigan ने एक research में पाया कि जिन लोगों ने एक दिन में एक से ज्यादा कोल्ड ड्रिंक पी उन लोगों के दांत और लोगों के मुकाबले 62% तक ज्यादा खराब हुए हैं।
  • 600 मिली लीटर की एक कोल्ड ड्रिंक की बोतल में लगभग 225 कैलोरी होती है। रोज एक बोतल कोल्ड ड्रिंक पीने का मतलब हम एक महीने में 6500 से ज्यादा कलोरी लेे रहे हैं।वह कैलोरी हर महीने हमारा एक किलो वजन बढ़ाती है जो पूरे साल में 12 किलो बन जाती है।यह कैलोरी सबसे पहले हमारे पेट पर दिखाई देती है।liquid calories बाकी calories के मुकाबले ज्यादा जल्दी absorb होती है।
  • कई research में यह साबित किया जा चुका है कि soft drinks में artificial high fructose corn syrup का इस्तेमाल होता है।जो हमारे भूख से जुड़े हार्मोन ghrelin के level  में बदलाव करता है इससे हमको यह नहीं पता चल पाता कि कब भूख लगी है या हमारा पेट भरा है या नहीं भरा है।
  • इसे पीने का सबसे ज्यादा बुरा असर teenagers में पाया जा रहा है। इस उम्र में कोल्ड ड्रिंक्स से दोस्ती आगे चलकर उन्हें कमजोर हड्डियां दे रही है,जो आगे चलकर जल्दी जल्दी fracture की वजह बन रहा है। इनमें मौजूद तत्व body में कैल्शियम absorb नहीं होने देते।इसलिए कैल्शियम supplement काअसर तब तक नहीं होता जब तक हम इसे पीना बन्द नहीं करते।
  • कोल्ड ड्रिंक्स की लत sugar production को भी affect करती है। एक research में पाया गया कि जो लोग रोजाना एक या दो कोल्ड ड्रिंक पिए वो जल्द है मोटापा और टाइप 2 डायबिटीज के शिकार हो गए। वहीं जिन  लोगों ने इस craving को खतम करने के लिए फलों का जूस या ताजे फल खाए वो स्वस्थ और दुबले पतले बने रहे।
  • Dehydration- इसमें बड़ी मात्रा में कैफ़ीन होता है जो बॉडी को dehydrate करता है।यानी हमारी body से  नमी कम हो जाती है।
  • इसमें कैरेमल chemical‌ होता है जो कैंसर का खतरा बढ़ाता है।
  • कोल्ड ड्रिंक्स में झाग पैदा करने के लिए कार्बन डाइऑक्साइड मिलाई जाती है जो  हेल्थ के लिए काफी नुकसानदायक होती है।
  • इसमें मौजूद सुगर हमारे ब्रेन में dopamine chemical release करता है जिससे हमारा इसके प्रति addiction बढ़ता है।

कैसे छोड़ें कोल्ड ड्रिंक –

  1. ठंडे पानी में नींबू, संतरा, खीरा, पाइनएप्पल,या सेब के slice डालकर या फिर कोई squash डालकर पिएं इससे body hydrate भी रहेगी और हमारे पानी का flavour भी बदल जाएगा।
  2. सुबह या कभी भी snacks के रूप में हम मिल्क शेक या फ्रूट जूस लेे सकते हैं।इससे हमारा पेट भी बहुत देर तक भरा रहेगा और मीठे की craving भी पूरी हो जाएगी।
  3. अगर हम छोटे बच्चों को कोल्ड ड्रिंक दे रहे हैं तो उसमे थोड़ा बर्फ का टुकड़ा दाल दें और गिलास को थोड़ा कम भरें।इससे वे कम ड्रिंक पिएंगे।
  4. बड़े लोग ग्रीन टी की आदत डालें।चाय , कॉफी , या ग्रीन टी पीने से कोल्ड ड्रिंक या कोला पीने की तलब काम होगी।

About the author

Fuggy Pandey

Fuggy Pandey

I am a content writer who specialized in writing about Facts, Technology, Life Hacks, Biography and Trending content. I'm working with a great team and have enjoyed the opportunities they have given me to help their knowledge grow.

View all posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *